Chandra Darshan in June 2021: इस दिन है चंद्र दर्शन, जानें समय और चंद्रमा को खुश करने के मंत्र

चन्द्र दर्शन का अपना एक धार्मिक महत्व है. लोग इस दिन उपवास रखते हैं और शाम में चन्द्र दर्शन के बाद ही भोजन ग्रहण करते हैं.


अमावस्या के बाद अगले दिन या दूसरे दिन को चन्द्र दर्शन (Chandra Darshan 2021) दिवस कहा जाता है. जब चन्द्रमा पृथ्वी से दिखाई नहीं देता है तो इस घटना को हिन्दु धर्म में अमावस्या कहते हैं और ज्योतिष शास्त्र में मास की यह तिथि अमावस्या (Amavasya 2021) कहलाती है. चन्द्र दर्शन का अपना एक धार्मिक महत्व है. लोग इस दिन उपवास रखते हैं और शाम में चन्द्र दर्शन के बाद ही भोजन ग्रहण करते हैं.

ज्योतिष शास्त्र में चन्द्र दर्शन दिवस की गणना चुनौतीपूर्ण होती है. क्यूँकि, इस दिन सूर्यास्त के तत्काल बाद चन्द्रमा मात्र कुछ समय के लिए ही दिखाई देता है. चन्द्र दर्शन वाले दिन चन्द्रमा और सूर्य दोनों समान क्षितिज पर स्थित होते हैं जिसकी वजह से चन्द्र दर्शन सूर्यास्त के बाद ही सम्भव होता है, जब चन्द्रमा स्वयं ही अस्त होने वाला होता है.

जून 11, 2021, शुक्रवार

चन्द्र दर्शन

07:19 पी एम से 08:12 पी एम


चंद्रमा को खुश करने के मंत्र

– ऊं ऐं क्‍लीं श्रीं.

– श्वेतः श्वेताम्बरधरः श्वेताश्वः श्वेतवाहनः. गदापाणि द्विर्बाहुश्च कर्तव्योः वरदः शशिः. शशि, मय, रजनीपति, स्वामी.

– चन्द्र, कलानिधि नमो नमामी. राकापति, हिमांशु, राकेशा. प्रणवत जन नित हरहु कलेशा.

– सोम, इन्दुश्, विधु, शान्ति सुधाकर. शीत रश्मि, औषधी, निशाकर.

– तुम्हीं शोभित भाल महेशा. शरण-शरण जन हरहु कलेशा.

Post a Comment

Previous Post Next Post